दुनिया का सातवां अजूबा the great Wall of China

चीन की दीवार के बारे में कुछ सामान्य जानकारी।

शायद ही दुनिया का कोई ऐसा शख्स होगा जो चीन की विशाल दीवार के बारे में न जानता हो। द ग्रेट वॉल ऑफ चाइना (The Great wall of china)के नाम से जाने जानी वाली यह दीवार दुनिया के सात अजूबों में शामिल है।

दुनिया का सातवां अजूबा the great Wall of China

The Great Wall of China : चीन की विशाल दीवार दुनिया के सात अजूबों (7 wonders of the world) में से एक है। चीन की महान दीवार को सन 1987 में यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया था।

चीन की महान दीवार पत्थर, ईंट, मिट्टी, लकड़ी से बनी किलेबंदी दीवार है। इसे खानाबदोश के हमलों और सैन्य घुसपैठ से चीन की रक्षा के लिए बनाया गया था।

महान दीवार का निर्माण 23 सौ साल पहले, 7वीं शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान शुरू हुआ और सदियों तक जारी रहा। किन, हान और मिंग सहित विभिन्न चीनी राजवंशों ने इसके निर्माण और रखरखाव में योगदान दिया।

इसे अक्सर “दस हजार ली की लंबी दीवार” के रूप में जाना जाता है, जहां “ली” दूरी की एक चीनी इकाई है। यह चीन की स्थायी ताकत और एकता का प्रतीक है।

The Great wall of china

दुनिया का सातवां अजूबा the great Wall of China

चीन की महान दीवार

चीन की महान दीवार, चीन की ही नहीं बल्कि दुनिया की भी सबसे लंबी दीवार है, जिसे अंग्रेजी में ‘ग्रेट वॉल ऑफ चाइना‘ कहते हैं। आइये इस लेख में चीन की दीवार के बारे में कुछ रोचक तथ्य जानते हैं।

इतिहास:

चीन की महान दीवार सदियों पुरानी किलेबंदी दीवारों की एक चैन है। जिसे चीन के विभिन्न शासकों के द्वारा उत्तरी हमलावरों से रक्षा के लिए बनवाया गया था। निर्माण कार्य 7वीं शताब्दी ईसा पूर्व में शुरू हुआ और कहा जाता है की 16वी शताब्दी तक जारी रहा।

लंबाई:

दीवार एक एकल, सतत संरचना नहीं है, बल्कि दीवारों, किलेबंदी और वॉच टावरों का एक नेटवर्क है। यह लंबाई में इतती बड़ी है कि ये पहाड़, पठार (Plateaus), घाटियां, रेगिस्तान, और कई अन्य घास के मैदानों को कवर करता है।

the great wall of china की लंबाई लगभग 13,170 मील (21,196 किलोमीटर) आंकी गई है। इसकी औसत ऊंचाई 20 से 26 फीट है। दीवार का सबसे बड़ा भाग 46 फीट की ऊंचाई का है। इस महान दीवार को बनाने में मिट्टी, लकड़ी, पत्थर और ईंटों  का उपयोग किया गया था।

महान दीवार में निगरानी और संचार के लिए वॉचटावर, चेतावनी भेजने के लिए सिग्नल फायर प्लेटफॉर्म और यात्रियों और सामानों के लिए चौकियों के रूप में काम करने वाले द्वार शामिल हैं।

The Great wall of china

दुनिया का सातवां अजूबा the great Wall of China

सांस्कृतिक महत्व

सांस्कृतिक महत्व : अपने सैन्य और रक्षात्मक कार्यों के अलावा भी, महान दीवार चीन के लिए बहुत जायदा सांस्कृतिक महत्व रखती है। यह देश के इतिहास, ताकत और लचीलेपन का प्रतीक है। इसे अक्सर चीन के सबसे महत्व पूर्ण प्रतीकों में से एक माना जाता है।

विश्व धरोहर स्थल:

चीन की महान दीवार को अपने निर्माण समय, मजबूती और पुराने इतिहास के कारण 1987 में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में स्वीकार कर लिया गया था। और इसे दुनिया के नए सात अजूबों में से एक The Great wall of china के रूप में भी देखा जाता है।

पर्यटन:

महान दीवार को देखने और समझने के लिए हर साल दुनिया भर से लाखों पर्यटक आते है। दीवार के कई हिस्सों को सेलानियों के लिए खोल दिया गया हैं। सेलानियों के लिए सबसे लोकप्रिय जगह बीजिंग के पास बैडलिंग और मुतियान्यू शामिल हैं।

दुनिया का सातवां अजूबा the great Wall of China

मिथक: The Great wall of china

इस महान दीवार से कई मिथक जुड़ी हुई है, जिसमें मेंग जियांगनु की कहानी भी शामिल है, एक महिला जो अपने पति, एक मजदूर के लिए रोती थी जो दीवार पर काम करते समय मर गया था। कहा जाता है कि उसके आंसुओं के कारण दीवार का एक हिस्सा ढह गया।

और यह भी कहा जाता है कि महान दीवार को अंतरिक्ष से देखा जा सकता है, लेकिन नासा का कहना है कि चीन की दीवार को ह्यूमन आईज से देख पाना नामुमकिन है। The Great wall of china

रखरखाव:

दीवार के जो हिस्से समय के साथ ख़राब हो जाते है उसकी देख रेख करने और मरम्मत करने का प्रयास किया जाता रहा है। इसके ऐतिहासिक मूल्य को बनाए रखना और भावी पीढ़ियों के लिए इसकी रक्षा करना है।

दुनिया की सबसे मजबूत संरचनाओं में से एक द ग्रेट वॉल ऑफ चाइना को पहले दुश्मनों से रक्षा के लिए बनाया गया था, लेकिन चंगेज खान ने इस महान दीवार को तोड़ कर चीन पर शासन किया। और फिर इस विशाल दीवार का इस्तेमाल परिवहन और सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए किया जाने लगा था।

Conclusion : चीन की महान दीवार न केवल एक भौतिक चमत्कार है, बल्कि चीन के स्थायी इतिहास और सांस्कृतिक पहचान का प्रतीक भी है। यह मानव इंजीनियरिंग की बेमिसाल नमूना है। The Great wall of china

Leave a Comment